अध्याय १: गैर हिन्दुओं में छुआछूत

आदि मानव अशुद्धि के निम्नलिखित कारण समझता था;
१. कुछ विशेष घटनाओं का घटना
२. कुछ वस्तुओं से सम्पर्क
३. कुछ व्यक्तियों से सम्पर्क
जीवन की जिन घटनाओं को प्राचीन मनुष्य अपवित्रता का कारण मानता था, उनमें निम्नलिखित मुख्य थीं;१. जन्म २. दीक्षा संस्कार ३. वयसंधि ४. विवाह ५.सहवास ६.मृत्यु

गर्भवती माताओं को अशुद्ध माना जाता था और उन्हे दूसरों में अशुद्धि फैलाने वाला माना जाता था। माता की अपवित्रता बच्चो तक मैं फैलती थी।

प्रारम्भिक मनुष्य ने यह सीख लिया था कि कुछ वस्तुए पवित्र हैं और कुछ अन्य अपवित्र। यदि कोई व्यक्ति किसी पवित्र वस्तु को छू दे तो यही माना जाता था कि उसने उसे अपवित्र कर दिया..

इस पवित्रता की भावना का सम्बंध केवल वस्तुओं से नहीं था। लोगों के कुछ ऐसे विशिष्ट वर्ग भी थे जो अपवित्र समझे जाते थे। कोई व्यक्ति उन्हे छू देता तो वह विशिष्ट व्यक्ति छूत लगा हुआ माना जाता था।अजनबी लोगों से मिलना, आदिम पुरुष द्वारा छुआछूत का स्रोत माना जाता था ।

यदि शुद्ध व्यक्ति को किसी सामान्य लौकिक व्यक्ति से दूषित कर दिया गया हो अथवा स्वजाति से ही अपवित्रता हुई हो तो एकांतवास होता ही है। सामान्य दूषित व्यक्ति को शुचि से दूर रहना ही चाहिये। सजातीय को विजातीय से दूर रहना चाहिये। इस से यह स्पष्ट है कि आदिम काल के समाज में अशुद्धि के कारण पृथक कर दिया जाता था।

अशुद्धि को दूर करने के साधन पानी और रक्त हैं। जो आदमी अशुद्ध हो गया हो उस पर यदि पानी और रक्त के छींटे दे दिये जायं तो वह पवित्र हो जाता है। पवित्र बनाने वालों अनुष्ठानों में वस्त्रों को बदलना, बालों तथा नाखूनों को काटन पसीना निकालना, आग तापना, धूनी देना, सुगंधित पदार्थों के जलाना, और वृक्ष की किसी डाली से झाड़फूंक कराना शामिल है।

ये अशुद्धि मिटाने के साधन थे। किंतु आदिम काल में अशुद्धि से बचने का एक और उपाय भी था। वह था एक की अशुद्धि दूसरे पर डाल देना। वह किसी दूसरे ऐसे व्यक्ति पर जो पहले से ही वर्जित अथवा बहिष्कृत होता था, डाल दी जाती थी।

इसी तरह प्राचीन समाज की अशुद्धि की कल्पना आदिम समाज की अशुद्धि की कल्पना से कुछ भिन्न नहीं थी।

प्राचीन रोम में घर की पवित्रता की तरह सारे प्रदेश की प्रदक्षिणा करके बलि देकर प्रादेशिक शुद्धि का संस्कार पूरा होता था। वहीं की न्याय पद्धति में यदि शाब्दिक उच्चारण में कोई अशुद्धि रह जाती तो वादी अपना मुकदमा स्वयं ही हार जाता।

4 टिप्‍पणियां:

आशीष कुमार 'अंशु' ने कहा…

बहूत सुन्दर

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा

Deepak Shirahatti ने कहा…

प्राचीन अपवित्रता के बारे में मेरे विचार कुछ भिन्न हैं। चूंकि प्राचीन काल में "अन-हायजेनिक"ता व "संक्रमण" की संभावना अधिक थी अतः गर्भवती माताओं को इनसे दूर रखने के लिये उनसे अधिक कार्य व्यवहार पर पाबंदी लगाई गई। इससे वे माताएं एवं उनके नवजात बीमारियों से बचे रहते। कालांतर में ये पाबंदियां दूसरों के सिर से हट कर गर्भवती एवं नवप्रसूताओं के सिर आ गई तथा अपवित्रता कहलाई।

इसी प्रकार प्राचीन समय में मृत्यु होने पर मृत्यु के साधारणतयः कारण संक्रमण से बचाव के लिये संबंधित परिवार का सार्वजनिक कार्यें व स्थानों से सूतक की अवधि के लिये निषेध किया जाता था।
संक्रमण के इन्क्यूबेशन पीरियेड का बाद, जो कि 10-12 दिनों का अधिकतम हो सकता है, सूतक का समापन किया जाता था जिसका सार्वजनिक प्रदर्शन सामुहिक भोज, पगड़ी आदि के रूप में किया जाता था। यदि परिवार संक्रमण से प्रभावित होता तो इसी सूतक की अवधि में कोई अन्य सदस्य भी प्रभावित हो जाता। अन्यथा परिवार संक्रमण रहित मान लिया जाता।

sumant ने कहा…

एक नया जोश एक नया वक़्त एक नया सवेरा लाना है
कुछ नए लोग जो साथ रहे कुछ यार पुराने छूट गए
अब नया दौर है नए मोड़ है नई खलिश है मंजिल की
जाने इस जीवन दरिया के अब कितने साहिल फिसल गए

अत्यंत खूबसूरत प्रस्तुति
www.the-royal-salute.blogspot.com

Vimal Shukla ने कहा…

आप सही हैं। चिकित्सकीय ज्ञान में हमारे पूर्वजों का कोई सानी नहीं।